राजनैतिक स्तर ? – नोटबंदी के चलते हुई मौतें और लोगो की परेशानी के मद्देनज़र दिल्‍ली भाजपा की लड्डू योजना, हर घर में बांटी जाएगी मिठाई

0
90

राजनैतिक स्तर ? – नोटबंदी के चलते हुई मौतें और लोगो की परेशानी के मद्देनज़र दिल्‍ली भाजपा की लड्डू योजना, हर घर में बांटी जाएगी मिठाई 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को बंद करने के फैसले के बाद तब से अब तक देश मे कई मौते हो चुकी है, और नकदी की कमी से लोग बेहद परेशान है, ऐसे मे नाराज लोगों को अपने साथ लाने के लिए दिल्‍ली भाजपा ने ‘लड्डू’ योजना बनाई है। इसके तहत पार्टी ने दिल्‍ली में अपने कार्यकर्ताओं से हर घर में एक लड्डू देने को कहा है। इसके जरिए उनके धैर्य के लिए आभार जताया जाएगा। इस फैसले की पुष्टि करते हुए दिल्‍ली भाजपा अध्‍यक्ष मनोज तिवारी ने बताया, ”प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने काले धने से मुकाबले के लिए यह क्रांतिकारी कदम उठाया है। कुछ परेशानियां झेलने के बावजूद लोगों ने इस फैसले का समर्थन किया है। अब हमारी बारी है कि हम उनके संयम का आभार जताएं।” उन्‍होंने कहा कि कार्यकर्ताओं को एक जनवरी से प्रत्‍येक घर में मिठार्इ बांटने के लिए जाने को कहा है। यह काम 10 जनवरी तक किया जाएगा। बकौल तिवारी, ”हम लोगों तक जाने को हमारे कार्यकर्ताओं को प्रोत्‍साहित करेंगे। लोगों का धन्‍यवाद करना तो बनता है।यदि लोग लाइन में बिना शिकायत के खड़े रह सकते हैं तो क्‍या हम उन्‍हें एक लड्डू नहीं दे सकते। आपके पड़ोसी के लिए एक लड्डू बड़ी बात नहीं है। यह दिखाता है कि हम उनके कितने आभारी हैं जो उन्‍होंने प्रधानमंत्री के फैसले का समर्थन किया। हम हमारे कार्यकर्ताओं से निवेदन करेंगे कि वे अपने पड़ोसी के लिए एक लड्डू लेकर जाएं। यदि वे पांच घरों के लिए पांच लड्डू लेकर जाएंगे तो और भी अच्‍छा होगा।” हालांकि अभी तक यह साफ नहीं हो पाया कि लड्डू एक ही जगह से लिए जाएंगे या फिर कार्यकर्ताओं को उनके इलाके की दुकान से खरीदने होंगे। इसी बीच सूत्रों ने बताया कि पिछले सप्‍ताह पार्टी की कोर टीम ने नोटबंदी को लेकर अपना फीडबैक दिया। यह बैठक प्रत्‍येक मंगलवार को होती है। पार्टी के एक सीनियर नेता ने बताया, ”हमने फीडबैक‍ दे दिया है और यह उतना अच्‍छा नहीं है जितना बताया जा रहा है। कदम अच्‍छा है लेकिन इसे लागू करने के तरीके ने चोट पहुंचाई है। कारोबारी दुखी हैं और यह बात बता दी गई है !

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here