You are here
ताज़ा ख़बरें 

मौलाना कादरी ने सोनू निगम को बताया देश के लिए कलंक, एंकर ने दी हद में रहने की हिदायत

बॉलीवुड गायक सोनू निगम और बंगाल यूनाइटेड माइनॉरिटी यूनाइटेड काउंसिल के वाइस प्रेसिडेंट सैयद शा आतिफ अली अल कादरी के बीच हुई अप्रत्‍यक्ष बहस अब राष्‍ट्रीय मुद्दा बन गई है। टीवी चैनलों पर बहसों में लगातार इसी मुद्दे पर चर्चा हो रही है। न्‍यूज18 इंडिया पर बहस के दौरान मौलाना आतिफ कादरी ने सोनू निगम को ‘देश पर कलंक’ बता दिया। इस पर एंकर सुमित अवस्‍थी हत्‍थे से उखड़ गए और उन्‍होंने मौलाना को हद में रहने की हिदायत थी।

गर्मागर्म बहस में कादरी ने कहा कि ‘मैं ये समझता हूं ये मुसलमानों की नहीं, हिन्दुस्तानियों की लड़ाई है। गलत को गलत कहना हर हिंदुस्तानी का फ़र्ज़ है।’ जब एंकर ने पूछा कि आप किस राजनैतिक पार्टी के इशारे पर काम कर रहे हैं तो मौलाना ने कहा कि ‘हम ने आजतक कोई काम किसी के इशारे पर नहीं किया।’ कादरी ने कहा कि ‘सोनू निगम हमारे लेवल का नहीं। वो घर में आने से डरता है।’

अज़ान पर ट्वीट को लेकर विवाद के बाद सोनू ने बुधवार (19 अप्रैल) को सिर मुंडवा लिया था। सोनू के मुताबिक, उन्‍होंने यह कदम कादरी के बयान के बाद उठाया। कादरी ने कहा था कि ‘अगर कोई सोनू निगम का सिर मूंड दे और उसके गले में फटे-पुराने जूतों की माला पहनाए, उसे देशभर में घुमाए तो वह उसे 10 लाख रुपए देंगे।’

सोनू ने 17 अप्रैल को किए गए ट्वीट्स में कहा, ”ईश्‍वर सबका भला करे। मैं मुस्लिम नहीं हूं और मुझे सुबह अज़ान के चलते उठना पड़ता है। भारत में यह जबरन धार्मिकता कब खत्‍म होगी? जब मोहम्‍मद ने इस्‍लाम बनाया तब बिजली नहीं थी। एडिसन के बाद भी मुझे यह शोर क्‍यों सुनना पड़ता है? मैं किसी मंदिर या गुरुद्वारे द्वारा उन लोगों को जगाने के लिए बिजली के उपयोग को जायज नहीं मानता जो धर्म पर नहीं चलते। फिर क्‍यों? ईमानदारी? सच्‍चाई? गुंडागर्दी है बस।” सोनू के इन ट्वीट्स पर विवाद हो गया। मुस्लिम समुदाय के कई नेताओं के सोनू के बयान की निंदा की।

Related posts

Leave a Comment

Pin It on Pinterest

X
Share This